यदि भारत के राष्ट्रपति का चुनाव सर्वोच्च न्यायालय द्वारा शून्य घोषित कर दिया जाता है, तो अदालत के इस तरह के निर्णय की तारीख से पहले राष्ट्रपति द्वारा किए गए कार्य बने रहेंगे?

(A) मान्य
(B) अमान्य
(C) न्यायिक समीक्षा के अधीन वैध
(D) वैध संसद के अनुमोदन के अधीन

उत्तर- [1] मान्य

व्याख्या : यदि भारत के राष्ट्रपति के चुनाव को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा शून्य घोषित कर दिया जाता है, तो अदालत के इस तरह के निर्णय की तारीख से पहले राष्ट्रपति पद के लिए किए गए कार्य वैध रहते हैं।