वृहद पाषाण स्मारकों की पहचान की गई है?

(a) संन्यासी गुफाओं के रूप में
(b) मृतक को दफनाने के स्थानों के रूप में
(c) मंदिर के रूप में
(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं

Ans: [b) मृतक को दफनाने के स्थानों के रूप में

व्याख्या: दक्षिण भारत से प्राप्त बृहदपाषाण स्मारक (मेगालिथिक) की पहचान मृतकों के दफनाएं गए कब्रों से की गयी है। इन कब्रों को बड़े बड़े पत्थरों के टुकड़ों से घेर दिया जाता था। इन कब्रों से न केवल अस्थिपंजर बल्कि मृदभांड और लोहे की वस्तुएँ प्राप्त हुयी है। जो उनके धार्मिक विश्वासों की ओर संकेत करते है।

Leave a Comment