वैदिक काल में 8 प्रकार के विवाह प्रचलित थे। इनमें से कौन प्रेम विवाह था?

[1] ब्रह्म विवाह
[2] गंधर्व विवाह
[3] दैव विवाह
[4] आर्ष विवाह

उत्तर: (2] गंधर्व विवाह

व्याख्या: वैदिक काल के दौरान, जब एक पुरुष और महिला अपने परिवार की स्वीकृति के बिना प्रेम विवाह कर लेते थे तो ऐसा विवाह गंधर्व विवाह या ‘प्रेम विवाह’ कहलाता था। यह विवाह बिना किसी रीति-रिवाज, गवाह या परिवार की भागीदारी के बिना दो लोगों के मध्य पारस्परिक आकर्षण पर आधारित था।

Leave a Comment