उत्खनित प्रमाणों के अनुसार पशुपालन का प्रारम्भ हुआ था?

(a) निचले पूर्व पाषाण काल में
(b) मध्य पूर्व पाषाण काल में
(c) ऊपरी पूर्व पाषाण काल में
(d) मध्य पाषाण काल में

Ans: [d) मध्य पाषाण काल में

व्याख्या: प्राप्त पुरातात्विक साक्ष्यों के अनुसार पशुपालन का प्रारम्भ मध्यपाषाण काल में माना जाता है। भारत में मध्यपाषाण काल में पशुपालन के साक्ष्य मध्यप्रदेश के आदमगढ़ एवं राजस्थान के बागौर से प्राप्त हुये हैं। मध्यपाषाण काल का प्रारंभ 10 हजार से 6 हजार ई.पू. के आसपास माना जाता है। लघु उपकरणों का प्रयोग इस काल की प्रमुख विशेषता है।

Leave a Comment