उन अवशिष्ट मामलों पर कौन कानून बना सकता है जिनका उल्लेख केंद्र/राज्य/समवर्ती सूचियों में नहीं है?

(A) विशेष रूप से राज्य विधानमंडल
(B) अकेले संसद
(C) राज्य विधानसभाओं की सहमति के बाद संसद
(D) संसद या राज्य विधायिका जैसा कि सर्वोच्च न्यायालय द्वारा निर्णय दिया गया है

उत्तर- [4] संसद या राज्य विधानमंडल जैसा कि सर्वोच्च न्यायालय द्वारा निर्णय दिया गया है

व्याख्या : संविधान में अवशिष्ट शक्ति निहित है, अर्थात, संघ विधायिकाओं (अधिनियम 248) में तीन सूचियों में से किसी एक में सूचीबद्ध नहीं किए गए किसी भी मामले के संबंध में कानून बनाने की शक्ति। यह अदालतों पर छोड़ दिया गया है कि वह अंतत: यह निर्धारित करें कि कोई विशेष मामला अवशिष्ट, शक्ति के अंतर्गत आता है या नहीं।