उच्चतम न्यायालय ने किस मामले में मौलिक अधिकारों की प्रमुखता राज्य नीति के निदेशक सिद्धांतों से ऊपर स्थापित की?

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

(A) गोलकनाथ का मामला
(B) केशवानंद भारती का मामला
(C) मिनर्वा मिल्स का मामला
(D) उपर्युक्त सभी मामले

Ans: [A] गोलकनाथ का मामला

व्याख्या: गोलकनाथ बनाम पंजाब राज्य (1967) वाद में सर्वोच्च न्यायालय ने अपने निर्णय में निम्नलिखित महत्वपूर्ण सिद्धान्त दिए (i) संसद नागरिकों के मूल अधिकारों में परिवर्तन का अधिकार नहीं रखती तथा वह भाग -3 में ऐसा संशोधन नहीं कर सकती जो उनमें कमी करे या समाप्त करे। अर्थात् उसने मौलिक अधिकारों की प्रमुखता राज्य नीति के निदेशक सिद्धांतों के ऊपर स्थापित की। (ii) अनुच्छेद 368 संसद को संविधान संशोधन की केवल प्रक्रिया बताता है। (iii) अनुच्छेद 368 द्वारा किया गया संशोधन अनुच्छेद 13 (2)में वर्णित विधि की परिभाषा के अन्तर्गत आता है। 

www.gkwiki.in

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now