संस्कृत भाषा से संबंधित प्राचीन कालीन साहित्यिक रचनाओं पर लेख लिखिए?

 

उत्तर– संस्कृत विश्व की सबसे प्राचीन उल्लेखित भाषाओं में से एक हैं । संस्कृत भाषा का संबंध हिंद -आर्य भाषा समूह से हैं। संस्कृत के मानकीकरण के पश्चात आरंभिक धर्म दर्शन और ज्ञान- विज्ञान से संबंधित साहित्य की रचना अधिकांशत संस्कृत में हुई थी।

वैदिक काल में रचित ‘ऋग्वेद’ को संस्कृत में रचित प्रथम प्राचीनतम ग्रंथ माना जाता है। यज्ञ विधियां (यजुर्वेद )ऋग्वेद के छंदों की गायन विधियां (सामवेद) संस्कार एवं कर्मकांड विद्या (अथर्ववेद) वैदिक साहित्यिक रचनाएं हैं। वेदों के उपरांत, ब्राह्मण (वेदों की व्याख्या) आरण्यक एवं उपनिषद साहित्य जिसमें भौतिक एवं आध्यात्मिक प्रश्नों की विवेचना की गई है। वेदो के सरलीकरण में वेदांग एवं पाणिनि कृत अष्टाध्यायी का विशेष योगदान है।रामायण एवं महाभारत जैसे महाकाव्यों की रचना भी संस्कृत में की गई थी। स्मृति ग्रंथ से धार्मिक कतेव्य व अर्थशास्त्र से शासन- विज्ञान का ज्ञान होता है।

संस्कृत में लौकिक साहित्य का आरंभ गुप्त काल के समकालीन माना जाता है |इसके अंतर्गत कुमारसंभव, रघुवंश , मेघदूत, अभिज्ञानशाकुंतलम्  (कालिदास), उत्तररामचरित (भवभूति), किरातार्जुनीयम् (भरवी), मुद्राराक्षस (विशाखदत्त), मृच्छकटिकम् (शूद्रक), दशकुमारचरित(दंडी) आदि महान साहित्यिक रचनाओं में राजनीतिक घटनाओं, प्रेम प्रसंग रूपक ,हास्य प्रसंग एवं दार्शनिक विषयों का वर्णन है। कालांतर में हर्ष कालीन साहित्य में हर्षचरित, कादंबरी (बाण) अन्य प्रसिद्ध रचनाएं थी।

संस्कृत भाषा की समृद्ध ऐतिहासिक विरासत के आधार पर भारत सरकार ने 2005 में इसे शास्त्रीय भाषा का दर्जा प्रदान किया।