संसद के सदनों द्वारा एक विधेयक पारित होने के बाद, इसे राष्ट्रपति के सामने प्रस्तुत किया जाता है जो या तो विधेयक को स्वीकृति दे सकते हैं या अपनी सहमति रोक सकते हैं। राष्ट्रपति कर सकते हैं?

(A) छह महीने के भीतर सहमति
(B) विधेयक को यथाशीघ्र स्वीकृति या अस्वीकार करना
(C) विधेयक को विधेयक पर पुनर्विचार करने के लिए सदन से अनुरोध करने वाले संदेश के साथ उसे प्रस्तुत किए जाने के बाद जितनी जल्दी हो सके उसे वापस कर दें
(D) सदनों द्वारा विधेयक को फिर से पारित किए जाने पर भी उसकी सहमति रोक दी जाती है

उत्तर- [3] विधेयक को उसके समक्ष प्रस्तुत करने के बाद उसे एक संदेश के साथ यथाशीघ्र लौटा दें, जिसमें सदन से विधेयक पर पुनर्विचार करने का अनुरोध किया गया हो।

व्याख्या : भारतीय संविधान के अनुच्छेद 111 में यह प्रावधान है कि राष्ट्रपति संसद के दोनों सदनों द्वारा पारित किसी विधेयक को स्वीकृति देगा या अपनी सिफारिश से विधेयक को यथाशीघ्र पुनर्विचार के लिए लौटादेगा।