निम्नलिखित में से किस भारतीय पुरात्त्ववेत्ता ने पहली बार ‘भीमबेटका गुफा’ को देखा और उसके शैलचित्रों के प्रागैतिहासिक महत्त्व को खोजा?

(a) माधोस्वरूप वत्स
(b) एच.डी. संकालिया
(c) वी.एस. वाकणकर
(d) वी.एन. मिश्रा

Ans: [c) वी.एस. वाकणकर

व्याख्या: वर्ष 1957 ई. में पुरातत्वविद् वी.एस. वाकणकर ने विश्व प्रसिद्ध भीमबेटका के शैल चित्रों को खोजा था। यहां से सम्पूर्ण प्रागैतिहासिक काल के मानव आवास के साक्ष्य मिले है यहां से प्राप्त लगभग 700 गुफा आश्रयों में से 475 में शैचचित्र देखे जा सकते हैं। यहां चित्रों का निर्माण उच्च पूर्ण पाषाण काल में प्रारम्भ हुआ, लेकिन सर्वाधिक संख्या में मध्य पाषाण काल के चित्र मिलते हैं।

Leave a Comment