मधुबनी चित्र शैली की विशेषताओं को लिखिए ?

उत्तर– मधुबनी चित्र शैली बिहार के मिथिलांचल क्षेत्र मधुबनी, दरभंगा और नेपाल के तराई क्षेत्र में विस्तारित हैं। इसे ‘मिथिला’ चित्र शैली भी कहा जाता है।

मधुबनी शैली की विषय-वस्तु मुख्यतः धार्मिक है ।धार्मिक भित्ति चित्रों में दुर्गा राधा-कृष्ण,सीता-राम ,शिव-पार्वती ,विष्णु- लक्ष्मी आदि का चित्रण होता है ।यह चित्रकला जन्म, विवाह और त्योहारों जैसे शुभ अवसरों को चित्रित करते हुए निर्मित की जाती है।

वनस्पतियों के गहरे रंगों का उपयोग, अतिरंजित मुखाकृतियों के साथ बड़ी आंखें ,दोहरी पंक्ति का किनारा, अलंकृत पुष्पित पैटर्न ,प्रतीकात्मक पशु-पक्षियों के चित्र आदिस शैली की मुख्य विशेषताएं हैं।

इस शैली के चित्र पारंपरिक रूप से दीवारों पर ही बनाए जाते हैं परंतु अब कागज ,वस्त्रऔर कैनवास के आधार का प्रयोग अधिक किया जाता है। मधुबनी चित्र शैली में प्रधानतः महिला चित्रकारों की भूमिका होती है।