किस प्रकार का मृद्भाण्ड भारत में द्वितीय शहरीकरण के प्रारम्भ का प्रतीक माना गया?

[1] चित्रित धूसर बर्तन
[2] उत्तरी काले पॉलिशयुक्त बर्तन
[3] गेरु रंग वाले मृद्भाण्ड
[4] काले और लाल बर्तन

उत्तर: (2] उत्तरी काले पॉलिशयुक्त बर्तन

व्याख्या: उत्तरी काले पॉलिशकृत बर्तन का मृद्भाण्ड (पॉटरी) भारत में द्वितीय शहरीकरण के प्रारम्भ का प्रतीक माना गया। पुरातत्व के अनुसार ई. पू. छठी शताब्दी, उत्तरी काला पॉलिशदार मृभांड द्वितीय शहरीकरण अवस्था का आरंभ काल है। इस मृभांड को एन.बी.पी.डब्ल्यू. (नॉर्दर्न ब्लैक पॉलिश्ड वेयर) भी कहते हैं। एन.बी.पी.डब्ल्यू. काल में ही गंगा के मैदानों में नगरीकरण की शुरुआत हुई। यह भारत का द्वितीय नगरीकरण कहलाता है।

Leave a Comment