कवि कालिदास किसके राजकवि थे?

[1] चन्द्रगुप्त मौर्य
[2] समुद्रगुप्त
[3] चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य
[4] हर्ष

उत्तर: (3] चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य

व्याख्या: कवि कालिदास चन्द्रगुप्त ‘विक्रमादित्य’ के राजकवि थे। सात ग्रन्थों के प्रणयन का श्रेय कालिदास को दिया जाता है- रघुवंश, कुमारसंभव, मेघदूत, ऋतुसंहार, मालविकाग्निमित्रम, विक्रमोर्वशीय तथा अभिज्ञानशाकुतलम। इनमें प्रथम दो महाकाव्य, दो खण्डकाव्य (गीत काव्य) तथा तीन नाटक ग्रन्थ हैं। अभिज्ञानशाकुतलम को अत्यधिक ख्याति एवं प्रशंसा मिली है तथा इसका अनुवाद कई विदेशी भाषाओं में किया जा चुका है।

Leave a Comment