गैर-धन विधेयक के संसद के हर सदन में कितने वाचन होते हैं?

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

(A) दो
(B) तीन
(C) चार
(D) एक

Ans: [B] तीन

व्याख्या: किसी भी विधेयक (गैर-धन विधेयक) का सदन में तीन बार वाचन होता है। (i) प्रथम वाचन:-इसमें विधेयक पेश करने वाला मंत्री विधेयक पेश करने के कारणों तथा विधेयक के उद्देश्य के संबंध में बताता है। यह कार्य, मंत्री द्वारा लोकसभा अध्यक्ष या सभापति द्वारा नियत की गई तिथि को उनके अनुमति से किया जाता है। (ii) द्वितीय वाचन :- प्रवर/ संयुक्त प्रवर समिति द्वारा प्रतिवेदन विधेयक को स्वीकार करने के बाद विधेयक के खंडों एवं उपखंडों पर सदन द्वारा विचार प्रारंभ होता है। इसी विचारण के दौरान सदन के सदस्यों द्वारा विधेयक में संशोधन पेश किए जाते हैं। यदि संशोधन स्वीकार कर लिए जाते हैं तो वे विधेयक के अंग बन जाते हैं। (iii) जब विधेयक के सभी खंडों तथा उपखंडों पर, संशोधन सहित सदन द्वारा विचार-विमर्श कर लिया जाता है, और सदन द्वारा उसे स्वीकार कर लिया जाता है, तब विधेयक पेश करने वाला मंत्री यह प्रस्ताव करता है कि विधेयक को पारित किया जाए। 

www.gkwiki.in

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now