बुद्ध, धम्म और संघ मिलकर कहलाते हैं?

[1] त्रिरत्न
[2] त्रिवर्ग
[3] त्रिसर्ग
[4] त्रिमूर्ति

उत्तर: (1] त्रिरत्न

व्याख्या: बौद्ध धर्म में बुद्ध, संघ और धर्म तीन रत्न (त्रिरत्न) माने जाते हैं। बौद्ध धर्म के अनुसार बुद्ध के स्वरूप पर चित्त को केन्द्रित करने से मनुष्य के मन में वितृष्णा और स्थिरता आती है, संघ के प्रभाव से साधक में विश्वास और उत्साह का उदय होता है और धर्म के सेवन से उसके आत्मिक बल की वृद्धि होती है। गौतम बुद्ध ने संघ को सर्वाधिक महत्व दिया।

Leave a Comment